मुंबई टेस्ट ड्रॉ, भारत ने सीरीज जीती

6:31 PM | Labels: 0 comments

india-West-Indies.jpgपंडित - मुंबई टेस्ट में एक वक्त भारत जीत की दहलीज पर पहुंच गया था , लेकिन अंतिम समय में वेस्ट इंडीज के बेहतरीन खेल से भारत को ड्रॉ पर संतोष करना पड़ा। इसके साथ ही आखिरी टेस्ट मैच जीत कर क्लीन स्वीप करने की भारत की उम्मीदें टूट गईं। भारत को जीत के लिए 243 रनों की जरूरत थी, लेकिन टीम इंडिया 9 विकेट पर 242 रन ही बना सकी। इस तरीके से टीम इंडिया ने यह टेस्ट सीरीज 2-0 से जीत ली।

स्कोरकार्ड : भारत Vs. वेस्ट इंडीज

दूसरी पारी में 243 रन के जीत के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया का पहला विकेट गौतम गंभीर के रूप में गिरा। 12 रन बना चुके गंभीर को एडवर्ड्स की गेंद पर सैमी ने लपका। इसके बाद सहवाग और द्रविड़ ने भारत की पारी बखूबी संभाली। 65 गेंद पर 60 रन बनाकर सहवाग आउट हुए। सहवाग को बिशू की गेंद पर सैमी ने लपका।

सहवाग के बाद आए सचिन भी तुरंत चलते बने। 3 रन बना चुके सचिन को सैमुअल्स की गेंद पर एडवर्ड्स ने कैच किया। टिक कर खेल रहे राहुल द्रविड़ भी 33 रन बना कर आउट हो गए। द्रविड़ को सैमुअल्स की गेंद पर रामदीन ने लपका। फिर लक्ष्मण और विराट कोहली ने भारतीय पारी को संभाला , लेकिन लक्ष्मण 31 रन बनाकर आउट हो गए।

अब कोहली का साथ देने आए कप्तान धोनी। ऐसा लगने लगा था कि टीम इंडिया जीत की ओर बढ़ रही है , तभी धोनी आउट हो गए। 13 रन के निजी स्कोर पर धोनी रवि रामपॉल के शिकार बन गए। टारगेट से कुछ ही रन पहले भारत का सातवां विकेट गिर गया। 63 रन के निजी स्कोर पर कोहली बिशू की गेंद पर सैमी को कैच थमा बैठे। 10 रन के निजी स्कोर रामपॉल ने इशांत शर्मा को बोल्ड कर दिया। इसके बाद वरुण एरोन खेलने आए। रामपॉल की आखिर गेंद पर उन्होंने एक रन लेकर स्ट्राइक अपने पास रख लिया , जबकि अश्विन जमे हुए थे और उनसे अच्छे खिलाड़ी भी हैं। यहीं भारत ने एक बड़ी गलती कर दी। अगला ओवर एडवर्ड्स का था। भारत को जीत के लिए 3 रनों की जरूरत थी। एडवर्ड्स ने बेहतरीन गेंदबाजी की। अंतिम गेंद पर भारत को 2 रनों की जरूरत थी। अश्विन स्ट्राइक पर थे। वह एक रन बना लिए और दूसरे रन के लिए दौड़ पड़े , लेकिन वरुण रन आउट हो गए और भारत को ड्रॉ पर संतुष्ट होना पड़ा।

वेस्ट इंडीज की दूसरी पारी में सारे विकेट प्रज्ञान ओझा और आर. अश्विन ने मिलकर ले लिए। प्रज्ञान ओझा ने 6 और अश्विन ने 4 विकेट लिए। टेस्ट के चौथे दिन खेल खत्म होने तक वेस्ट इंडीज का स्कोर 2 विकेट पर 81 रन था। 189 रनों की बढ़त के साथ वेस्ट इंडीज ने आखिरी दिन बैटिंग शुरू की। मैच के आखिरी दिन वेस्ट इंडीज के विकेटों की झड़ी लग गई। 35 रन बना चुके ब्रेथवेट को आउट करने में ओझा ने ज्यादा देर नहीं लगाई।

48 रन पर ब्रावो को ओझा ने अपनी ही गेंद पर कैच करके हाफ सेंचुरी बनाने से रोक दिया। सैमुअल्स खाता भी नहीं खोल पाए थे कि ओझा की गेंद पर धोनी ने कैच लपक लिया।

ओझा ने शुरू के 5 विकेट झटके थे , लेकिन छठा विकेट अश्विन के खाते में गया। कार्लटन 1 रन ही बना पाए थे कि अश्विन ने उन्हें बोल्ड कर दिया। 11 रन बना चुके पावेल को भी अश्विन ने एलबीडब्ल्यू कर दिया। बिना खाता खोले रामपॉल को ओझा ने पविलियन वापस भेजा। उन्हें तेंडुलकर ने कैच किया। 10 रन बना चुके सैमी को अश्विन की गेंद पर धोनी ने कैच किया। बिशू को जीरो पर आउट करके वेस्ट इंडीज का आखिरी विकेट भी अश्विन ने झटका।

मैन ऑफ द मैचः आर. अश्विन
मैन ऑफ द सीरीजः आर. अश्विन

0 comments:

Confused? आप की राय का स्वागत है.